Draupadi Murmu Biography in Hindi | द्रौपदी मुर्मू का जीवन परिचय

द्रौपदी मुर्मू का जीवन परिचय [जीवनी, जाति, उम्र, पति, सैलरी, बेटी, बेटा, आरएसएस, शिक्षा, राष्ट्रपति, जन्म तारीख, परिवार, पेशा, धर्म, पार्टी, करियर, राजनीति, अवार्ड्स, इंटरव्यू] Draupadi Murmu Biography in Hindi [caste, age, husband, income, daughter, rss, president, sons, qualification, date of birth, family, profession, politician party, religion, education, career, politics career, awards, interview, speech]

द्रौपदी मुर्मू एक भारतीय राजनीतिज्ञ हैं। वह झारखंड की पूर्व राज्यपाल और ओडिशा भाजपा नेता हैं। वह न केवल एक प्रसिद्ध आदिवासी नेता हैं, बल्कि एक कुशल प्रशासक भी हैं। द्रौपदी मुर्मू, एक आदिवासी महिला नेता, राष्ट्रपति पद की दौड़ के लिए मोदी सरकार की पहली पसंद हैं। वह पूर्व केंद्रीय मंत्री, यशवंत सिन्हा के खिलाफ हैं, जो जुलाई के चुनावों के लिए संयुक्त विपक्षी उम्मीदवार हैं।उनका नाम भारत के अगले राष्ट्रपति के लिए भाजपा की सूची में है।

देश की पहली आदिवासी महिला गवर्नर द्रौपदी मुर्मू ने 18 मई 2015 को झारखंड के गवर्नर का पद संभाला था. दो बार विधायक रह चुकीं द्रौपदी मुर्मू ने अपने करियर की शुरुआत शिक्षक के रूप में की थी. थोड़े दिन के लिए उन्होंने ओडिशा के सिंचाई विभाग में भी नौकरी की. फिर राजनीति में सफर शुरू हुआ तो सर्वश्रेष्ठ विधायक के पुरस्कार से भी नवाजा गया.

द्रौपदी मुर्मू

पार्षद से शुरू हुई थी राजनीतिक करियर

1997 में द्रौपदी मूर्मू पहली बार पार्षद बनीं. इसी साल वह ओडिशा एसटी मोर्चा की उपाध्यक्ष बनीं. 2004 में द्रौपदी मूर्मू विधानसभा चुनाव लड़ीं और जीत हासिल की. बतौर विधायक उन्हें ओडिशा केसर्वश्रेष्ठ विधायक के खिताब से नवाजा जा चुका है. ओडिशा विधानसभा चुनाव, 2013 में उन्होंने फिर से जीत हासिल की. भाजपा अनुसूचित जनजाति प्रकोष्ठ के अध्यक्ष, जिला अध्यक्ष और कई अहम जिम्मेवारी संभाल चुकी द्रौपदी मुर्मू का राजनीतिक करियर उपलब्धियों भरा रहा है. बीजद-भाजपा गठबंधन की सरकार में उन्होंने परिवहन, कॉमर्स समेत कई अहम विभाग के मंत्रालय को भी संभाला.

द्रौपदी मूर्मू झारखंड के राज्यपाल के रूप में

झारखंड का राज्यपाल बनने के बाद द्रौपदी मुर्मू कीशख्सियत की चर्चा राष्ट्रीय मीडिया में भी होने लगी. उन्हें एनडीए की ओर से संभावित राष्ट्रपति उम्मीदवार बताया गया था.अमूमन एक राज्यपाल, राज्य कीयूनिवर्सिटी की कुलाधिपति होते हैं, और गवर्नर की ज्यादा सक्रियता यूनिवर्सिटीसे जुड़े विषयों में रहती है, लेकिन उन्होंने उच्च शिक्षण संस्थान के अलावा झारखंड के दूर-दराज इलाकों तक भी अपनी पहुंच बनायी. ऐसे कई मौके आये जब उन्होंने कस्तूरबा विद्यालय के कार्यक्रमों में हिस्सा लिया. आमतौर पर सरकारी विद्यालयों में शायद ही कोई बड़ा अधिकारी व मंत्री पहुंचता हो, लेकिन वंचित वर्ग के छात्रों के बीच पहुंचकर उनका हौसला उन्होंने बढ़ाना. यह उन्हें झारखंड जैसे राज्य के राज्यपाल के रूप में और भी सहज बनाता है.

Draupadi Murmu Biography, Education, Age, Marriage, Family & Photos

वास्तविक नामद्रौपदी मुर्मू
उपनामज्ञात नहीं है
पेशाभारतीय राजनीतिज्ञ
राजनीतिक दलभारतीय जनता पार्टी
  
फिजिकल स्टैट्स और बहुत कुछ 
ऊंचाई (लगभग)सेंटीमीटर में- 163सेमी
  
  
लगभग वजन।)किलोग्राम में- 74 किग्रा
 पाउंड में- 163 पाउंड
आँखों का रंगभूरा
बालो का रंगकाला
पर्सनल लाइफ 
जन्मदिन की तारीख20 जून, 1958
आयु (2017 के अनुसार)59 वर्ष
जन्म स्थानमयूरभंज, उड़ीसा, भारत
राशि चक्र / सूर्य राशिमिथुन राशि
राष्ट्रीयताभारतीय
गृहनगरमयूरभंज, उड़ीसा, भारत
विद्यालयज्ञात नहीं है
सहकर्मीरमा देवी महिला कॉलेज, भुवनेश्वर, ओडिशा
शैक्षणिक तैयारीअक्षरों में लाइसेंस
प्रथम प्रवेशश्री अरबिंदो इंटीग्रल एजुकेशन एंड रिसर्च, रायरंगपुर में मानद सहायक प्रोफेसर के रूप में और फिर ओडिशा
सिंचाई विभाग में एक कनिष्ठ सहायक के रूप में काम करने के बाद, वह 1997 में भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गईं।
परिवारपिता– स्वर्गीय बिरंची नारायण टुडु
 माता– ज्ञात नहीं है
 भइया– ज्ञात नहीं है
 बहन– ज्ञात नहीं है
धर्महिन्दू धर्म
नस्लजनकास्ट कैलेंडर
पसंदीदा वस्तु 
पसंदीदा राजनेताअटल बिहारी वाजपेयी, नरेंद्र मोदी
शिष्टता का स्तरविधवा
मामले / प्रेमीज्ञात नहीं है
पतिश्याम चरण मुर्मु
बच्चेबेटों– 2 (अब जीवित नहीं)
 बेटी-इतिश्री मुर्मु
धन कारक 
नेट वर्थ (लगभग)INR 9.5 लाख

द्रौपदी मुर्मू का जन्म एवं शुरुआती जीवन (Birth & Early Life )

द्रौपदी मुर्मू का जन्म 20 जून 1958 को ओडिशा के मयूरभंज जिले के बैदापोसी गांव में हुआ था। उनके पिता का नाम बिरंची नारायण टुडू है। वह संथाल परिवार से ताल्लुक रखती हैं, जो एक आदिवासी जातीय समूह है।

द्रौपदी मुर्मू की शादी श्याम चरण मुर्मु से हुई थी जो अब इस दुनिया में नहीं है। उनके दो बेटे थे जो अब जीवित नहीं है और एक बेटी है जिसका नाम इतिश्री मुर्मु है जिसके सहारे वह अपनी जिंदगी राहत के साथ गुजार रही है।

द्रौपदी का राजनीतिक करियर:

ओडिशा में भारतीय जनता पार्टी और बीजू जनता दल गठबंधन सरकार के दौरान, वह 6 मार्च, 2000 से 6 अगस्त, 2002 तक वाणिज्य और परिवहन के लिए स्वतंत्र प्रभार और 6 अगस्त, 2002 से मई तक मत्स्य पालन और पशु संसाधन विकास राज्य मंत्री थीं। 16, 2004। वह ओडिशा की पूर्व मंत्री और वर्ष 2000 और 2004 में रायरंगपुर विधानसभा क्षेत्र से विधायक थीं।

वह झारखंड की पहली महिला राज्यपाल हैं। वह ओडिशा की पहली महिला और आदिवासी नेता हैं जिन्हें भारतीय राज्य में राज्यपाल नियुक्त किया गया है।

वह 1997 में ओडिशा के रायरंगपुर जिला पार्षद के रूप में चुनी गईं। मुर्मू ठीक उसी वर्ष रायरंगपुर के उपाध्यक्ष बने।
• 2000 के विधानसभा चुनावों में, वह उसी निर्वाचन क्षेत्र से चुनी गईं और उन्हें 2002 तक परिवहन और वाणिज्य विभाग दिया गया।
• ओडिशा सरकार ने उन्हें 2002 में मछली और पशुधन के पोर्टफोलियो से सम्मानित किया। उन्होंने 2004 तक इस पद पर रहे।
• मुर्मू ने 2002 से 2009 तक मयूरभंज जिले के लिए भाजपा के जिला अध्यक्ष के रूप में कार्य किया।
• 2004 में, वह रायरंगपुर की विधायक चुनी गईं और 2009 तक सेवा की।
• भारतीय जनता पार्टी ने उन्हें 2006 में ओडिशा के मोर्चा अनुसूचित जनकास्ट के राज्य अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया। वह 2009 तक इस पद पर रहीं।
• 2010 में मयूरभंज जिले के लिए भाजपा के जिला अध्यक्ष को फिर से नियुक्त किया गया।
• 2013 में, वह तीसरी बार उसी जिले के लिए भाजपा की जिला अध्यक्ष बनीं। वह अप्रैल 2015 तक पद पर थे।
• मई 2015 में झारखंड के राज्यपाल के रूप में नियुक्त किया गया।

द्रौपदी का जन्म 20 जून 1958 को ओडिशा के मयूरभंज जिले के बैदापोसी गांव में हुआ था। उनके पिता का नाम बिरंची नारायण टुडू है। वह संथाल परिवार से ताल्लुक रखती हैं, जो एक आदिवासी जातीय समूह है।

मुर्मू की शादी श्याम चरण मुर्मू से हुई थी। दंपति के दो बेटे और एक बेटी थी। द्रौपदी मुर्मू के जीवन को व्यक्तिगत त्रासदियों और पति और दो बेटों की हानि से चिह्नित किया गया है।

द्रौपदी मुर्मू की संपत्ति (Draupadi Murmu Net Worth )

द्रौपदी मुर्मू एक महिला राजनेता होने के बाद भी ज्यादा संपत्ति की मालकिन नहीं है उनके मात्र मुश्किल से बुरी परिस्थियों में अपने घर को सँभालने लायक संपत्ति है जो की है मात्र रु 9.5 लाख। इसके अलावा ना कोई आभुषण , ना जमीन और ना ही कोई चल और अचल सम्पति।

द्रौपदी मुर्मू राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए नामित

भाजपा नीत गठबंधन राजग की संयुक्त उम्मीदवार के तौर 21 जून 2022 को देश के 16वें राष्ट्रपति के चुनाव के लिए नामित किया गया। जिसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करके बताया कि ” मुझे विश्वास है कि वह एक महान राष्ट्रपति होंगी।’

प्रधानमंत्री ने ये भी कहा कि द्रौपदी मुर्मू ने अपना जीवन समाज की सेवा में समर्पित किया है। उन्‍होंने गरीबों, दलितों के साथ हाशिए के लोगों को सशक्त बनाने के लिए अपनी ताकत झोंक दी। उनके पास समृद्ध प्रशासनिक अनुभव है और उनका कार्यकाल उत्कृष्ट रहा है। विश्वास है कि वह देश की एक महान राष्ट्रपति होंगी।

नरेन्द्र मोदी ने लिखा कि वो लोग जिन्होंने गरीबी का अनुभव किया है और कठिनाइयों का सामना किया हो वो द्रौपदी मुर्मू के जीवन से काफी ऊर्जा प्राप्त किया करते हैं साथ ही उनको नीतिगत मामलों की जानकर दयालु भी बताया।

FAQ:

द्रौपदी मुर्मू के पति का नाम क्या है?

श्याम चरण मुर्मू

झारखंड की पहली महिला राज्यपाल कौन है?

द्रौपदी मुर्मू

द्रौपदी मुर्मू कौन है?

NDA द्वारा घोषित भारत के अगले राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार। द्रौपदी मूर्म अनुसूचित जनजाति से जुड़ी पहली महिला से जिसका राष्ट्रपति के पद के लिए नामांकित किया गया है

द्रौपदी मुरमू किस समुदाय से ताल्लुक रखती हैं?

आदिवासी समुदाय

Leave a Comment