Home Remedies for Cholesterol | कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए घरेलू उपाय

कोलेस्ट्रॉल के बारे में आपने जरूर सुना होगा। लेकिन क्या आप जानते हैं कि Meaning of Cholesterol in Hindi क्या है। क्या आप सच  में कोलेस्ट्रॉल का मतलब जानते भी हैं। अगर आप कोलेस्ट्रॉल का मतलब जानते हैं, तो क्या आप कोलेस्ट्रॉल कम करने की एक्सरसाइज या डाइट खोज रहे हैं। या फिर आप कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए योगा, उपाय या अन्य कोई तरीका खोज रहे हैं। अगर हां तो आज हम आपको कोलेस्ट्रॉल कम करने का रामबाण इलाज बताएंगे। हमारे द्वारा बताए गए तरीके से आप कोलेस्ट्रॉल आसानी से कम कर लेंगे।  लेकिन इससे पहले कोलेस्ट्रॉल क्या है इसे तो समझ लें।

क्या है कोलेस्ट्रॉल – What is The Meaning of Cholesterol in Hindi

 कोलेस्ट्रॉल  का नाम सुनते ही लोग अक्सर टेंशन में आ जाते हैं। उन्हे पता ही नहीं होता कि कोलेस्ट्रॉल होता क्या है। दरअसल कोलेस्ट्रॉल हमारी बॉडी के बहुत से कार्यों के लिए जिम्मेदार होता है। लेकिन अगर कोलेस्ट्रॉल हाई हो जाए तो यह आपको हृदय रोग से जुड़ी समस्याओं में डाल देता है।

आपको बता दें कि कोलेस्ट्रॉल एक तरह के लिपिड का ही पार्ट है। कोलेस्ट्रॉल हमारे शरीर की प्रत्येक कोशिका की बाहरी परत में होता है। कुल मिला कर आसान शब्दों में समझा जाए तो यह एक चिकना स्टेरॉयड होता है जो पूरे शरीर में ब्लड प्लाज्मा के जरिए ट्रांसपोर्ट होता है। हमारे शरीर में दो तरह के कोलेस्ट्रॉल होते हैं। एक होता है लो डेंसिटी लिपोप्रोटीन यानी एलडीएल और दूसरा होता है हाई डेंसिटी लिपोप्रोटीन यानी एचडीएल। 

कोलेस्ट्रॉल का कार्य

कोलेस्ट्रॉल हमारे शरीर के अंदर मौजूद एक तरह का फैट होता है जो हमारी कोशिकाओं को ऊर्जा पहुंचाने का कार्य करता है। ऐसे में आप जिस भी खाद्य सामग्री का सेवन करते हैं यह उसी के जरिए शरीर में पहुंचता है। जब आप अधिक मात्रा में फैट से भरी चीजें खाने लगते हैं तो कोलेस्ट्रॉल धमनियों में जमने लगता है और इसका लेवल बढ़ जाता है। जिसके बाद इसे कम करना आवश्यक हो जाता है। अगर हाई कोलेस्ट्रॉल को समय पर नियंत्रित ना किया जाए तो इससे हार्ट अटैक आने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए समय समय पर कोलेस्ट्रॉल लेवल की जांच कराना बेहद जरूरी है।

अच्छा और बुरा कोलेस्ट्रॉल – What is The Meaning of Good And Bad Cholesterol in Hindi

कोलेस्ट्रॉल दो प्रकार का होता है। एक होता है एलडीएल कोलेस्ट्रॉल और दूसरा होता है एचडीएल कोलेस्ट्रॉल। बहुत से लोग इनके नाम को लेकर भी कंफ्यूज हो जाते हैं। साधारण भाषा में लोग जानते ही नहीं की अच्छा कोलेस्ट्रॉल कौन सा होता है और बुरा कौन सा। 

एलडीएल (बुरा) कोलेस्ट्रॉल

आपको बता दे कि एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को बुरा या बैड कोलेस्ट्रॉल कहते हैं यानी यह आपके लिए समस्या पैदा कर देता है। यह आपकी रक्त तंत्रिकाओं में जमा हो जाता है और आपके लिए हार्ट अटैक की स्थिति पैदा कर देता है। 

एचडीएल (गुड) कोलेस्ट्रॉल

एचडीएल कोलेस्ट्रॉल, इसे अच्छा या गुड कोलेस्ट्रॉल भी कहा जाता है। एचडीएल कोलेस्ट्रॉल आपके शरीर को सही प्रकार से कार्य करने में मदद करता है। 

बैड कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के लक्षण – Symptoms of Bad Cholesterol in Hindi

आपके शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने लगता है तो इसका असर आपको आपके शरीर पर अलग अलग तरह से दिखाई देता है।  इसके कुछ लक्षणों के बारे में हम आपको नीचे बता रहे हैं। 

बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल के कारन शरीर पर दिखने वाले लक्षण 

  1. अगर आपके घर में किसी व्यक्ति को सीने में दर्द की समस्या अक्सर रहती है, तो हो सकता है की उसे हाई कोलेस्ट्रॉल की समस्या हो। इस स्थिति को किसी भी तरह नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। ऐसा होने पर डॉक्टर को जरूर दिखाएं।
  2. जब किसी व्यक्ति की दिल की धड़कन असमान तरीके से चलती हैं तो यह भी हाई कोलेस्ट्रॉल का लक्षण हो सकता है। ऐसे में तुरंत डॉक्टर को दिखाना ही सही रहता है।
  3. अगर आपकी स्किन पीली पड़ रही है तो यह भी कोलेस्ट्रॉल के बढ़े होने का लक्षण हो सकता है। कई लोगों को यह पीलिया भी लग सकता है, लेकिन यह कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के कारण होता है। 
  4. आपने ऐसे बहुत से लोग देखे होंगे जो जरा सी दूर चलने मात्र पर ही थक जाते हैं। इस तरह के लोगों को डॉक्टर से तुरंत संपर्क करना चाहिए। आपको बता दें कि कमजोरी और थकान महसूस होना भी बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल के लक्षणों में ही गिना जाता है।
  5. ऐसे बहुत से लोग होते हैं जिनका वजन बहुत तेजी से बढ़ने लगता है। ऐसा संभव है कि यह हाई कोलेस्ट्रॉल की वजह से हो। इस स्थिति में आपको अपनी जांच करानी चाहिए।
  6. धूम्रपान करने वाले लोगों का कोलेस्ट्रॉल बहुत तेजी से बढ़ता है। ऐसे में अगर आप भी धूम्रपान करते हैं तो अपना कोलेस्ट्रॉल जरूर चेक कराएं।
  7. अगर आपके तलवो में अक्सर दर्द रहता है तो यह समस्या हाई कोलेस्ट्रॉल के कारण हो सकती है। ऐसे में आपको तुरंत डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए। 

कितना होना चाहिए कोलेस्ट्रॉल लेवल

इस पर अगर विशेषज्ञों की राय माने तो पता चलता है कि शरीर में कुल कोलेस्ट्रॉल की मात्रा 200 MG/DL होनी चाहिए। इसमें बैड कोलेस्ट्रॉल 100 एमजी से अधिक ना हो। इसके अलावा गुड कोलेस्ट्रॉल की मात्रा 60 एमजी से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। वही शरीर में ट्राइग्लिसराइड की मात्रा 150 एमजी से कम बनी रहे तो ही बेहतर रहता है। 

हाई कोलेस्ट्रॉल होने का कारण – Reasons of High Cholesterol in Hindi

हाई कोलेस्ट्रॉल के बहुत से कारण हो सकते हैं। ऐसे में आपको अपनी पूरी दिनचर्या के अलावा बहुत सी बातों का ध्यान रखना होगा। हम आपको नीचे हाई कोलेस्ट्रॉल के मुख्य कारणों के बारे में बता रहे हैं। अगर आप इनमे से किसी भी तरह की गलती करते हैं तो आज ही इन्हे बदल दें।

बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल के कारण

  • आज कल की जीवनशैली में लोग कुछ भी उल्टा सीधा खाना शुरू कर देते हैं। समस्या तब पैदा होने लगती है जब आप अपने खानपान पर बिल्कुल भी नजर नहीं रखते और रोजाना कुछ ना कुछ उटपटांग खाने लगते हैं। इसके अलावा आप फल सब्जियों का सेवन नहीं करते। आपकी खाने पीने की खराब आदतों की वजह से कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ने लगती है।
  • कहते हैं कि मोटापा दुनियाभर की समस्या के लिए आमंत्रण पत्र की तरह है। अगर आप भी अपने शरीर का ध्यान नहीं रखते और आपका वजन तेजी से बढ़ता जा रहा है तो यह स्थिति आपके लिए बहुत ज्यादा खतरनाक हो सकती है। क्योंकि यह भी कोलेस्ट्रॉल बढ़ने का एक कारण हो सकता है।
  • अगर आप शराब सिगरेट का सेवन बहुत ज्यादा करते हैं तो यह आपको हाई कोलेस्ट्रॉल की समस्या उपहार में दे देगा। धूम्रपान और शराब ना केवल हाई कोलेस्ट्रॉल का कारण बनती है बल्कि इनकी वजह से कैंसर और अन्य गंभीर बीमारियां भी शरीर में पैदा होने लगती है।
  • अगर आपकी फैमिली हिस्ट्री में हाई कोलेस्ट्रॉल की समस्या रही है, तो यह यकीनन आपको भी हो सकती है। फैमिली हिस्ट्री से जुड़े लोगों को तो अधिक सतर्क होने की जरूरत है। क्योंकि यह आपको आपकी पिछली पीढ़ी से भी प्राप्त हो सकती है।
  • बढ़ती उम्र का असर ना केवल आपके शरीर पर बल्कि आपके अंदरूनी अंगों पर भी पड़ने लगता है। ऐसे में अगर आपकी उम्र बढ़ रही है और आप एक अच्छी जीवन शैली का चुनाव नहीं करते तो यह आपको समस्या में डाल सकता है। 
  • आजकल की जीवनशैली में लोग एक्सरसाइज और फिजिकल एक्टिविटी तो जैसे करना भूल ही जाते हैं। इस तरह की गलतियां आपके शरीर में केवल कोलेस्ट्रॉल ही नहीं कई समस्याएं पैदा कर देती हैं।

कोलेस्ट्रॉल कम करने की एक्सरसाइज – Cholesterol Kam Karne ki Exercise 

कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए एक्सरसाइज एक बहुत ही अच्छा और साधारण सा विकल्प है। आपने शायद नेशनल हेल्थ पोर्टल ऑफ इंडिया का नाम सुना होगा। इस पोर्टल पर बताया गया है कि 18 साल से लेकर 64 वर्ष के व्यक्ति को कम से कम 150 मिनट एक्सरसाइज जरूर करनी चाहिए। हालांकि एक्सरसाइज करते समय इस बात का ध्यान रखना जरूरी है कि आप ना तो इन्हें अधिक तेजी से करें और ना ही बहुत धीरे। ऐसे में अगर आप हाई कोलेस्ट्रॉल से परेशान हैं तो आपके लिए एक्सरसाइज करना बनता ही है। तो चलिए जानते हैं कोलेस्ट्रॉल कम करने की एक्सरसाइज के बारे में।

कोलेस्ट्रॉल कम करने की एक्सरसाइज है दौड़ना

दौड़ने के फायदे विज्ञान अक्सर बताता है। दौड़ने की सबसे अच्छी बात यह है कि इसके लिए आपको जिम या किसी स्पोर्ट्स सेंटर से जुड़ने की जरूरत नहीं है। बल्कि आप अपने घर के आस पास किसी पार्क या ट्रैक पर दौड़ सकते हैं। दौड़ने से आपके पूरे शरीर में रक्त संचार बेहतर बना रहता है। बस दौड़ लगाते समय आपको अपने जूतो का ध्यान रखना होता है। दौड़ लगाने के लिए आप किसी तरह के सस्ते जूते ना खरीदे। बल्कि जो जूते दौड़ लगाने के लिए बने होते हैं उन्हीं का इस्तेमाल करें। 

साइकिलिंग करेगी कोलेस्ट्रॉल कम 

अगर आपको दौड़ लगाने में किसी तरह की दिक्कत होती है, तो इसकी जगह आप साइकिलिंग कर सकते हैं। आपको बता दे कि साइकिलिंग के जरिए घुटनों के दर्द में भी आराम पहुंचता है। कोलेस्ट्रॉल कम करने की एक्सरसाइज में साइकिलिंग का नाम इसलिए भी शामिल है क्योंकि इसे आप अधिक दूर जाकर भी कर सकते हैं। साथ ही अगर आप बाहर निकलना पसंद नहीं करते तो आप अपने घर के अंदर साइकिलिंग मशीन का उपयोग कर सकते हैं। इससे आपका कोलेस्ट्रॉल बहुत आसानी से कम होने लगेगा और आपकी फिटनेस भी बरकरार रहेगी।

कोलेस्ट्रॉल कम करने की एक्सरसाइज है स्विमिंग

स्विमिंग के जरिए भी आप कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम कर सकते हैं। स्विमिंग करने से आपका पूरा शरीर सक्रिय रहता है। इसके अलावा रोजाना एक घंटा स्विमिंग करने से मोटापा घटाने में भी मदद मिलती है। वहीं स्विमिंग या अन्य एक्सरसाइज करने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आप इन्हे करने के बाद तरो ताजा महसूस करेंगे ।

सैर पर जाएं

अगर आप दौड़ने साइकिलिंग या तैरने में असमर्थ है, तो आप रोजाना सुबह थोड़ी तेज गति से पैदल सैर प जाना शुरू कर दें। पैदल चलना भी कोलेस्ट्रॉल कम करने की एक्सरसाइज हो सकती है। अगर आप सैर का समय नहीं निकाल सकते अपने ऑफिस, स्कूल या कॉलेज जाते समय कुछ दूरी पैदल चल कर ही पूरी करें। इससे आपका कोलेस्ट्रॉल भी रहेगा और आप फिट भी होने लगेंगे।

मसल्स ट्रेनिंग

अगर आपका इनमे से कुछ भी करने का मन नहीं है तो आप रोजाना जिम भी जा सकते हैं। इसके जरिए आप खुद को फिट भी रख पाएंगे। साथ ही जिम में मसल्स ट्रेनिंग से कोलेस्ट्रॉल कम करने में भी मदद मिलेगी।

एरोबिक्स डांस 

आप कोलेस्ट्रॉल कम करना चाहते हैं लेकिन इसे आप बोरिंग नहीं बनाना चाहते तो आप एरोबिक्स या अन्य कोई डांस फॉर्म का रास्ता अपना सकते हैं। इसके जरिए आपका कोलेस्ट्रॉल कम होने लगेगा।

वजन कम करने वाले वर्कआउट

वहीं अगर आपका वजन अधिक है और आप वजन घटाने वाली हाई इंटेंसिटी एक्सरसाइज करते हैं तो इसके जरिए भी आप कोलेस्ट्रॉल कम कर सकते हैं। कुल मिला कर आपको अपनी फिजिकल एक्टिविटी को बढ़ाना होगा। अगर आप ऐसा करते हैं तो इससे आपका कोलेस्ट्रॉल लेवल खुद ब खुद कम होने लगेगा।

कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए योगा – Cholesterol Kam Karne Ke Liye Yoga

कैंसर से लेकर कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए योग किया जाता है। योगा के जरिए बहुत सी बीमारियों से राहत पाई जा सकती है। इसके अलावा इम्यूनिटी बेहतर करनी हो, या पाचन शक्ति बढ़ानी हो इन सभी के लिए योगा में तरह तरह के आसन मौजूद हैं। आप चाहें तो हर तरह का योग कर सकते हैं। आज हम आपको कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए किन योगासन का सहारा लिया जा सकता है इसके बारे में बताने वाले हैं।

कपालभाति प्राणायाम

कपालभाति प्राणायाम कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए सही योगासन है। इस योगासन को रोजाना करने से ना केवल मेटाबॉलिज्म बेहतर होता है बल्कि यह मोटापा घटाने में भी बेहद कारगर रहता है। इसके अलावा यह आपकी पाचन शक्ति को बेहतर करने का एक बेहतर विकल्प भी है। आप रोजाना सुबह या शाम के समय कपालभाति प्राणायाम करके कोलेस्ट्रॉल को कम कर सकते हैं

कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए नाड़ी शोधन प्राणायाम योगासन

इस योगासन को करने के लिए आपको एक एक करके दोनों नाक के छेदों का उपयोग करना होता है। इसमें आपको सांस खींचनी और छोड़नी होती है। इस आसन के जरिए आपका कोलेस्ट्रॉल तो ठीक होता ही है साथ ही यह मेटाबॉलिज्म को भी फायदा पहुंचाता है।  

सर्वांगासन से करें कोलेस्ट्रॉल कम 

इस आसन के लिए आपको जमीन पर लेटना होता है और इसके बाद अपने दोनों पैरों को आसमान की ओर ले जाना होता है। इस आसन में आपके कंधे और सिर ही केवल जमीन पर होता है। इसके अलावा आपके हाथ आपकी कमर पर लगे होते हैं ताकि आपका बैलेंस ऊपर की ओर बना रहे। कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए सर्वांगासन फायदेमंद माना जाता है। यह आपके पेट के अंगों को पूरी तरह उत्तेजित कर देता है। साथ ही यह पाचन क्रिया को भी बेहतर बनाने में मदद करता है।

चक्रासन कोलेस्ट्रॉल करे कम

अगर आपको कोलेस्ट्रॉल के अलावा आंत संबंधित समस्या भी है तो इसके लिए आप चक्रासन कर सकते हैं। इस आसन के जरिए पेट की मालिश भी होती है। यह आसन कब्ज जैसी समस्या का भी अंत करने में सक्षम है। इसके अलावा यह पेट और कमर के आस पास चर्बी भी एकत्रित होने से रोकता है।

कोलेस्ट्रॉल को घटाएगा शलभासन

यह आसन कोलेस्ट्रॉल ही नहीं बल्कि आपके कूल्हे, जांघ, पेट और कमर के आस पास जमे फैट को भी हटाने में मदद करता है। कोलेस्ट्रॉल कम करने की चाह रखने वाले लोगों के लिए यह आसन बेह आसान है। इसके जरिए कब्ज और मल त्यागने की समस्या से भी आप राहत पा सकते हैं।

अर्ध मस्तयेंद्रासन 

यह आसन आपके पेट की मालिश भी करता है और कोलेस्ट्रॉल भी कम करता है। इस आसन को करने के बाद आपकी पाचन सबंधित समस्या भी पूरी तरह खत्म हो जाती है। इस आसन को आप रोज सुबह अन्य आसनों के साथ कर सकते हैं।

पश्चिमोत्तानासन कोलेस्ट्रॉल घटाने के लिए 

यह आसन थोड़ा कठिन जरूर है लेकिन है बेहद असरदार। इस आसन के जरिए आप आसानी से कोलेस्ट्रॉल घटा सकते हैं। पश्चिमोत्तानासन का लाभ आपकी आंत और गुर्दों को भी होता है। यह मोटापा कम करने और पेट के आस पास की चर्बी घटाने का भी काम बड़ी आसानी से कर लेता है।

नौकासन है कोलेस्ट्रॉल कम करने का उपाय

इस आसन के लिए आपको सबसे पहले किसी समतल जगह पर लेटना होगा। अब अपने दोनों पैरों और शरीर के ऊपरी हिस्से को इस तरह उठाना है जैसे कोई कश्ती या समुद्री जहाज होता है। इसमें आपके कूल्हे जमीन पर लगे रहेंगे और आपकी पूरी बॉडी नाव की तरह हवा में रहेगी। यह आसन कोलेस्ट्रॉल घटाने में आपकी मदद करेगा।

धनुरासन है कोलेस्ट्रॉल कम करने का तरीका

इस आसन के लिए आपको सबसे पहले पेट के बल समतल जगह पर लेटना होगा। अब अपने सिर और को हवा में उठाना होगा। साथ ही अपने पैरों को हाथों से पकड़ना होगा और जितना हो सके अपने सिर और पैरों को मिलाने का प्रयास करना होगा। अगर आप कोलेस्ट्रॉल कम करने और अपने शरीर को लचीला बनाने का उपाय खोज रहे हैं तो धनुरासन आपके लिए बिल्कुल सही है।

भुजंगासन या कोबरा पोज

इस आसन के लिए आपको सबसे पहले पेट के बल लेटना होगा। इसके बाद अपने कूल्हे से ऊपर के शरीर को हवा में उठाना होगा। इसमें आपके हाथ जमीन पर टिके रहेंगे और आपको सपोर्ट देंगे और आपका सिर छत की दिशा में होगा। यह आसन आपके पेट पूरी तरह स्ट्रैच करता है। इसके जरिए आपकी आंत भी बेहतर होती है। कोलेस्ट्रॉल घटाने के लिए सबसे आसान योगासन में से यह एक है।

कोलेस्ट्रॉल कम करने के उपाय – Cholesterol Kam Karne Ke Upay 

कोलेस्ट्रॉल कम करने के उपाय में एक सही डाइट शामिल होना बेहद जरूरी है। कहते हैं कि इंसान जो भी खाता है उसका असर उसके शरीर ही नहीं बल्कि विचारों पर भी पड़ता है। ऐसे में आपको कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए क्या खाना यह जानना भी आपके लिए बेहद जरूरी।  आइए जानते हैं Cholesterol Kam Karne Ke Upay में किस तरह की डाइट शामिल करनी चाहिए।

आंवला 

कोलेस्ट्रॉल घटाने के लिए आप आंवले का उपयोग कर सकते हैं। इसके लिए आप चाहें तो आंवले को कच्चा भी खा सकते हैं। या फिर आप आंवले के पाउडर को गर्म पानी में मिलाकर ले सकते हैं। यह कोलेस्ट्रॉल कम करने का अच्छा उपाय है।

प्याज 

प्याज का सेवन बहुत सी बीमारियों से निपटने के लिए किया जा सकता है। कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए भी आप प्याज का सेवन कर सकते हैं। इसके लिए आप प्याज के रस के साथ  शहद मिलाकर पिएं।

ओट्स 

ओट्स के सेवन के जरिए भी आप कोलेस्ट्रॉल की समस्या को कम कर सकते हैं। दरअसल ओट्स के अंदर प्रचुर मात्रा में फाइबर पाया जाता है। यह आपके मल त्यागने में मदद करता है। एक अध्ययन के मुताबिक सुबह नाश्ते में ओट्स के सेवन करने से 6 प्रतिशत तक कोलेस्ट्रॉल कम किया जा सकता है।

ऑलिव ऑयल का उपयोग 

शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा सबसे अधिक तैलीय पदार्थों के कारण बढ़ती है, जैसे कुकिंग ऑयल, देसी घी, आदि। इसके बजाय अगर ऑलिव ऑयल का उपयोग किया जाए तो इससे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा शरीर में कम हो जाती है।

कोलेस्ट्रॉल कम करने में ग्रीन टी का उपयोग

आज के समय में भी लोग ग्रीन टी का सेवन कम ही करते हैं। लेकिन केवल ग्रीन टी के जरिए ही आप ना केवल कोलेस्ट्रॉल कम कर सकते हैं। बल्कि यह मोटापा घटाने इम्यूनिटी सुधारने और पाचन क्रिया दुरुस्त करने के लिए भी जाना जाता है।

मछली का सेवन

मछली आपकी आंखों से लेकर बहुत सी समस्याओं को समाप्त करने के लिए जानी जाती है। आपको बता दे कि मछली के अंदर ओमेगा 3 फैटी एसिड पाया जाता है। आप खुद को फिट रखने और कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए सप्ताह में दो बार कोलेस्ट्रॉल का सेवन कर सकते हैं।

अलसी के बीज

अलसी के अंदर प्रचुर मात्रा में फाइबर होता है। यह फाइबर आपको कोलेस्ट्रॉल कम करने में मदद करता है।

 सेब का सिरका

सेब के सिरके के जरिए ना केवल बैड कोलेस्ट्रॉल कम होता है। बल्कि यह ट्राइग्लिसराइड का लेवल भी कम करने  का कार्य करता है।

सूखे मेवे 

सूखे मेवे या ड्राई फ्रूट्स आपकी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद माने जाते हैं। केवल कोलेस्ट्रॉल ही नहीं बल्कि आपकी हड्डियों से लेकर आपके दिमाग तक के लिए सूखे मेवो का उपयोग किया जा सकता है।

पीनट बटर या पीनट

अगर आप कोलेस्ट्रॉल कम करना चाहते है तो आप पीनट बटर या सिर्फ मूंगफली का सेवन कर सकते हैं। ध्यान रहे कि आप जो भी पीनट बटर खरीदे उसमें कोलेस्ट्रॉल की मात्रा जांच लें।

स्प्राउट्स

घर में बड़ी आसानी से सभी दाल एंव चने मिल जाती है। कोलेस्ट्रॉल घटाना हो तो यह भी काफी हैं। इसके लिए पहले आपको दालों या चने को भिगोकर रखना होगा और फिर इन्हे किसी गीले कपड़े में बांध कर रखना होगा। इससे यह अंकुरित हो जाएंगे।  यह आपका कोलेस्ट्रॉल लेवल कम करने का  काम करेगी।

डार्क चॉकलेट 

डार्क चॉकलेट का सेवन आपको बहुत से फायदे देता है। इसके अंदर एंटी ऑक्सीडेंट्स गुण होते हैं। इसके अंदर पाए जाने वाले अन्य गुण कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम कर देते हैं।

Leave a Comment